Coolie के ठग से कैसे बचे

दोस्तों आप लोगों ने coolie (कुली) रेलवे स्टेशन  में जरुर देखा होगा. कुली पे बहुत सरे फिल्म भी बन चुकी है जैसे कुली नों. 1 आदि. फिल्मों में जैसा कुली को देखा जाता है वैसा रियल लाइफ में हो ऐसा कहना नामुमकिन है. कुली  किसी के साथ अच्छा तो किसी के साथ बुरा होता है. मेरे साथ बहुत बुरा अनुभव था जो मै इस लेख दुवारा आपलोग को साझा करूँगा. 

 

मै कुछ दिनों पहले दिल्ली गया था. वापस आते वक़्त मेरे पास समान अधिक होने के चलते मैंने coolie लेने का फैसला लिया. और यहीं हुआ मेरे ज़िन्दगी का पहला scam. मेरे एक्सपीरियंस न होने कारण मेरा जमके स्कम हुआ. मैं जैसे ही ऑटो से बहार आया रेलवे स्टेशन के बहार coolie मेरे तरफ़ दौड़े चले आए. पहले तो मै बड़ा खुश हुआ की चलो कुली लोग खुद से हे आप्रोअच करे है. बहुत से कुली का अलग अलग ग्रुप बना हुआ था और उनमे से एक लीडर था. उन्होंने सबसे पहले टिकेट देखा इसके बाद स्सिधे समान उठाने लगे. मैंने उनलोगों से अपना रेट्स बताने को बोला लेकिन किसी ने भी अपना रेट्स नहीं बताया.

 

उनलोगों ने बात घुमा घुमा कर एक हे बात की कि कोरोना का समय है और स्टेशन बहुत स्ट्रिक्ट  है और ऊपर इन  दिनों से रेलवे से  समान ले जाने का अलग ही नौटंकी है. उनलोगों का PR इतना अच्छा था कि एक बार  MBA के students भी शर्मा जाए. 

 

मैंने ज़ोर देते हुए कहा “रेट्स बता दो भैया”. उन्होंने सभी तरह के जोड़ घटाव करके 5000 रूपये का बिल बनेगा बताया. मेरे होश उड़ गए. उन्होंने मेरे समान का Kg हिसाब से बताया की रेट्स इससे भी ज्यादा होगा अगर मै मुख्या दरवाज़ा से एंट्री लेता हूँ. मैंने फिर से उनलोगों से रेट्स कम करने की बात कही लेकिन वो लोग मानने को तैयार नहीं थे. “5000 बहुत होता है इतना तो टिकेट का दाम भी नहीं है” – मैंने धीमे आवाज़ में कहा. उनमे से एक coolie ने 3000 में जायेगा और उसने ये भी बोला की वो मुझे विप के दरवाज़े से ले जायगा. 

 

बहुत बात करने पे 2000 पे बात तय हुई. उन लोगों ने मेरे 4 बैग उठाये और चल दिए VIP गेट से. किसी पुलिस न किसी गार्ड ने कुछ कहा. ज्त्रें आने में अवि देरी थी तो उनलोगों ने मुझे मेरे कोच जहाँ रूकती वहां छोड़ दिया. फिर बात जब पैसा देने की बात आई तो मै 2000 देने लगा इतने में एक ने कहा 2500 रूपये हुए है. मैंने कहा मैं GPAY कर देता हूँ तो उन्होंने और 500 रूपये बाधा दिए बोले अगर UPI करनी है तो एक्स्ट्रा चार्ज लगेंगे . फिर से उनका ड्रामा चालू हो गया. कभी वो लोग धमकी देते तो कभी पैसो के लिए हाथ जोड़ते. 

 

Also Read – भारत में Scuba Diving कहाँ सिखे

 

मैंने बहुत बोला 3000 रूपये बहुत होते है मै नहीं दे सकता. लेकिन उनके सिर में लूटने का भूत सवार था और मुझे 3000 देने पढ़ गए. 

 

कैसे बचे इस तरह के scam से? 

  • पहले तो मै बोलना चाहूँगा अगर आपके पास समान बहुत कम है तो कुली न ही करे. और अगर आपके पास ट्राली बैग है तो किसी तरह से escalator के पास ले जाए और आजकल हरेक पल्त्फोर्म में escalator सीढ़ी होती ही है. 

 

  • आपके पास बहुत समान है है तो मै ये सुझाव दूंगा की कि किसी सिंगल कुली को पकड़े. ग्रुप में रहने वाले कुली अपने men power इस्तेमाल कर डरा सकते है. अधिक से अधिक 2 कुली ले ताकि किसी भी तरह का scam न हो सके. 

 

  • रेट्स पहले ही तय करे. चुकी 1-2 कुली ही साथ जायेगा तो दर आपको भी ज्यादा लगेगा नहीं. देल्ली स्टेशन लूट का बाज़ार है यहाँ संभल के रहने में ही भलाई है.

बेहतर infrastructure की जरुरत 

 

हमलोग आजकल ज्यादा costly टिकेट खरीदते है लेकिन फ़िर भी बेहतर infrastructure नहीं मिलता है. रेलवे स्टेशन आज भी वैसे ही है जैसे 5 साल पहले हुआ करता था. आखिर ऐसा क्यों है? अब इसका जवाब तो सरकार ही दे पाएगी. अब AC डब्बे के fare वायुयान के बराबर है लेकिन  एअरपोर्ट जैसे सुविधा बिलकुल भी नहीं है.वहां अपने ले जाने के लिए बहुत सरे कार्ट लगे रहते है. अगर वैसा ही कुछ स्टेशन में भी हो तो कम से कम कुली की लूट नहीं सहनी पड़ती. 

 

मै ये नहीं बोल रहा की सारे के सारे कुली scam करते है. लेकिन मोका मिलने पे कौन  कब किसका इरादा बदल जाए ये बताना मुश्किल है. दोस्तों आपकी समान और आपकी ज़िन्दगी की जिम्मेदारी आपके हाथों में है. नई दिल्ली स्टेशन में संभल के रहना चाहिए यहाँ लूट होना आम बात है.

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *